जानिए सबसे Easy तरीका खुद से GST return file करने का | GST return kaise bharte hain

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

आज की इस post में हम आपको GST return kaise bharte hain के बारे में बताएँगे साथ ही आपको बहुत सारी जानकारी जानने को मिलेगी जैसे : GST return फॉर्म क्या है? GST return कब भरा जाता है? GST return ना भरने पर क्या होता है? 

GST रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद एक यूनिक 15 अंको का number दिया जाता है जिसकी सहायता से समय-समय पर रिटर्न को भरने की आवश्यकता होती है। यदि आपने GST रजिस्ट्रेशन करवाया है तो आपको बहुत फॉर्म भरने होते है अलग अलग केटेगरी के टैक्सपेयर के लिए अगल अलग फॉर्म भरने होते है। 

GST Return Form क्या है – (What Is GST Return Form In Hindi )

GST Return एक प्रकार का Documents होता है जिसमे आपको अपने बिजनस के हर एक प्रकार के sales, purchase, Sales पर collect हुवे Tax (output tax) और Purchase के ऊपर आपने जो tax pay किया है इस सभी की डिटेल्स आपको इस डॉक्युमेंट्स मे भरनी पड़ती है।

इसे हर एक टैक्सपेयर को Tax  प्रशासनिक अधिकारियों के साथ फाइल करने की जरुरत होती है। जो व्यक्ति जीएसटी में रजिस्टर्ड होता है उसे हर महीने ऑनलाइन Online GST Return file करनी होती है। 

जीएसटी रिटर्न में आपको अपने बिजनेस से जुड़े प्रोडक्ट के बारे में बताना होता है कि आप कौन सा प्रोडक्ट sale कर रहे है? आपकी मंथली सेल कितनी हुई है? उस मंथली सेल पर कितना जीएसटी बना है? आपके पास कितना स्टॉक है और कितना स्टॉक आपने sale किया है?

उसके साथ ही आपने  कस्टमर से कितना जीएसटी लिया है और सरकार को कितना GST आपने PAY किया? कितना GST Tax सरकार का है उसमे से आपने कितना भरा है और कितना बचा हुआ है?

आपने कितना इनपुट खरीदा और उस पर कितनी GST Input Credit मिली सभी चीज़ो को GST Return Form में भरना होता है।  

आपको इन सभी चीजों की जानकारी एक return फॉर्म के माध्यम से सरकार को देनी होती है क्योंकि प्रत्येक वर्ष रिटर्न फॉर्म भरने की आवश्यकता होती है सभी चीजों की जानकारी आवेदन फॉर्म के माध्यम से आपको हर साल देनी होती है। 

GST Return के कितने प्रकार होते है – (Types Of GST Return )

दोस्तों अलग-अलग बिजनेस की कैटेगरी के लिए अलग-अलग जीएसटी रिटर्न होते हैं लेकिन कुल 15 प्रकार के जीएसटी रिटर्न होते हैं लेकिन 11 ही return form भरे जाते है। 

(1) GSTR -1

इसके अंदर आपको पिछले महीने की बिक्री से जुडी सभी जानकारी भरनी होती है इस form को आप हर महीने की 10 तारीख तक जमा करवा सकते है। मान  लीजिये आपने जनवरी महीने में जो बिक्री की है वह आप फ़रवरी की 10 तारीख तक भरना होगा। इसमें आपको कुल 13 तरह की जानकारी भरनी होती है। 

(2) GSTR-2

जब GSTR -1 भरने की अंतिम तिथि के बाद GSTR -2 भरने की तिथि शुरू हो जाती है। इसमें सिर्फ चेक किया जाता है कोई form भरने की आवश्यकता नही होती है। मान लीजिए कोई गलती हो जाती है तो उसको 10- 15 तारीख के बीच सही करवा सकते हैं। 

(3) GSTR-3

20 तारीख के बाद ये form आपको आपके account में दिखने लग जाता है इसमें आपको अपने पिछले महीने की बिक्री और खरीदारी के बारे में बताना होता है। GSTR 1 और GSTR -2 में जो जानकारी आप भरते हैं इसके आधार पर सॉफ्टवेयर GSTR-3 की रिपोर्ट तैयार कर लेता है। 

(4) GSTR-4

जिनका turn over 75 लाख रुपये  से कम का होता है उन्हें इस तरह की फाइल भरनी होती है इसमें चालान स्तर की खरीद की जानकारी के बारे में बताना होता है तथा भुगतान कर का विवरण देना जरुरी होता है। 

(5) GSTR-5

इसमें आपको क्रेडिट या डेबिट नोट्स के विवरण के साथ ही बंद स्टॉक, और नकद के बारे में जानकारी देनी होती है। यह हर महीने की 20 तारीख के बाद दायर किया जाता है। 

(6) GSTR-6

जो भी टैक्सपेयर होते है उन्हें यह form भरना होता है इसमें इनपुट क्रेडिट कार्ड के बारे में विवरण देना होता है।GSTR -5 के आधार पर पूरा डाटा फेच कर लिया जाता है उस आधार पर आपका tax निर्धारित होता है। 

(7) GSTR-7

GSTR -7 चालान income , TDS Income या  TDS विवरण और संशोधन के बारे में भरी जाती है। यह प्रत्येक महीने के 10वे तक भरना जरुरी होता है। नियमों के आधार पर देरी होने पर अतिरिक्त शुल्क भी लगता है।  

(8) GSTR-8

जीएसटी -8 रिटर्न फॉर्म सभी ई-कॉमर्स ऑपरेटरों द्वारा भरा जाता है  जिन्हें जीएसटी नियम के तहत अपने बिज़नेस के खरीद और बिक्री के बारे में बताना होता है।  इस फॉर्म में मॉडल जीएसटी कानून की धारा 43 सी के उपधारा (1) के तहत tax वसूल किया जाता है। 

(9) GSTR-9

 रिटर्न फॉर्म में समानता प्रत्येक वर्ष की रिपोर्ट के बारे में बताना होता है व्यवसाय से जुड़ी। इसमें टैक्सपेयर को बहुत ज्यादा फायदा होता है मान लीजिए कोई जानकारी  गलत भर गई है तो उसको सही करवाने का अवसर दिया जाता है। यह साल के अंतिम दिन 31 दिसंबर तक दायर करवाना होता है। 

(10)GSTR-10

जीएसटी -10 रिटर्न फॉर्म किसी भी टैक्सपेयर द्वारा दायर किया जाता  है जो जीएसटी पंजीकरण रद्द करने का विकल्प चुनता है इसमें आपको तीन महीने की जो भी जानकरी होती है वह देनी होती है। 

(11) GSTR-11

GSTR -11 विवरण के आधार पर, tax pay किया जाता है  जीएसटी -11 फॉर्म को महीने के 28 वें महीने में दाखिल किया जाना आवश्यक है। 

GST Return कैसे भरते है ? | GST Return Kaise Bharte Hain

अब हम जानेंगे की gst return kaise bharte hain तो चलिए जान लेते है इसका complete प्रोसेस –

  •  सबसे पहले आपको इनकी ऑफिशल वेबसाइट www.gst.gov.in पर जाना है। 
  •  उसके बाद आपको अपना Login ID और Password डालकर account Log In कर लेना है। 
  • इसके बाद आपको Services के ऑप्शन पर जाकर Return Dashboard के ऑप्शन पर click कर देना है। 
  •  अब आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा जिसमें आपको Month और Year डालकर सर्च के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है जिससे दो तरह की Return file शो होने लग जाएंगी। 
  • आपको GSTR-1 जोकि sales से रिलेटेड है में Preparing Online के बटन पर क्लिक करना है। 
  •  अब आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा जिसमें कुछ डिटेल्स पहले से ही फील होंगी और कुछ डाटा जो आपको पिछले month की सेल्स के आधार पर डाल देना है। 
  •  जीएसटी फॉर्म में सभी पूछी गई जानकारी डालने के बाद सेव की बटन पर क्लिक कर देना है। 
  •  इसके बाद आपको चालन का इस्तेमाल करते हुए अपनी जीएसटी का ऑनलाइन भुगतान कर देना है। 
  •  जैसे ही जीएसटी का ऑनलाइन भुगतान होगा उसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर Filing Successful का मैसेज आ जायेगा। 
  •  इस मैसेज में आपको Acknowledgement Reference Number प्रोवाइड किया जाएगा आपको इस नंबर को कहीं भी नोट कर लेना है इसकी आवश्यकता आपको आगे पड़ेगी। 
  •  यदि आपको अपनी GST Return Status चेक करना है तो आप दोबारा से Return Dashboard के ऑप्शन पर जाना है यहां पर आपको रिटर्न फाइल करने की साल और समय को सिलेक्ट करके सर्च की ऑप्शन पर क्लिक कर देना है। 
  •  इसके बाद सभी जीएसटी फॉर्म और उनका filing स्टेटस आपके सामने आ जाएगा उन्हें  वह आप बड़ी आसानी से देख सकते हैं। 

इसे भी पढे:

जानिए आप भी अपने आधार कार्ड को पैन कार्ड से कैसे लिंक कर सकते है ?

Conclusion

आज के इस पोस्ट मे हमने ये जाना की gst return kaise bharte hain और और अगर हम नहीं भरते है तो हमे किन समस्याओ का सामना करना पड़ता है इसलिए अगर आपके पास GST Number है तो उसे टाइम पर भरते है रहे। उमीद है की ये पोस्ट आपको पसंद आया होगा अगर पसंद आया है तो हुमए कमेन्ट करके जरूर बताए।

FAQ’s

GST Return ना भरने पर क्या होता है? 

यदि आप GST Return नही करते हैं तो आप माल की आपूर्ति नहीं कर पाएंगे आपके पूरी तरीके से एक लिमिट लगा दी जाती है आप केवल 50000 तक का समान ही खरीद पाएंगे।

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

Leave a Comment

%d bloggers like this: