Landmark ka Matlab Kya Hota Hai जाने पूरी जानकारी डिटेल मे

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि landmark ka matlab kya hota hai (लैंड मार्क का क्या मतलब होता है।)  कई लोगों के मन में यह सवाल जरुर होता है कि लैंडमार्क का मतलब क्या है?

क्योंकि जब आप कहीं पर अपना पता लिखते हैं अथवा आप किसी को अपना पता (address) बताते हैं तो वह जरुर आपसे एक सवाल पूछता है कि आपका landmark kya hai? तो आप समझ नहीं पाते हैं कि landmark ka matlab kya hota hai? लैंडमार्क को जानने के लिए ही आप इस पोस्ट पर आए हैं तो आइए जानते हैं कि landmark kya hai?

लैंडमार्क क्या होता है? | Landmark Kya Hota Hai

अब बात करेंगे की landmark kya hai,दोस्तों लैंडमार्क दो शब्दों से मिलकर बना है जिसे आप शायद जानते ही होंगे land+mark जिसमें कि (land) लैंड का अर्थ होता है जमीन, धरती, भूमि और (mark) मार्क का मतलब होता है चिन्ह अथवा निशान तो landmark का अर्थ हुआ धरती या जमीन अथवा भूमि का निशान या चिन्ह।

लैंडमार्क शब्द का इतिहास:-

Landmark ka matlab kya hota hai? को आगे जानने से पहले हम लैंडमार्क का इतिहास पहचान लेते हैं। दोस्तों वस्तु, राज्य, सीमाओं आदि को पहचानने के लिए लैंडमार्क शब्द का चलन लगभग 1560 ईसवी से शुरू हो गया था।

Landmark शब्द का उपयोग अधिकतर खोजकर्ताओं के द्वारा किया जाता था क्योंकि जब भी वो किसी वस्तु, राज्य अथवा सीमा की खोज करते थे तो वो लैंडमार्क शब्द का भी उपयोग करते थे।

लैंडमार्क शब्द का पूर्व में प्रयोग:-

दोस्तों लैंडमार्क शब्द को पिछले कई वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है अब हम जानेंगे कि लैंडमार्क शब्द का पूर्व में क्या प्रयोग होता था।

लैंडमार्क शब्द को पहले खोजकर्ता लोग ही अधिक इस्तेमाल करते थे। वो कोई भी चीज की खोज करते थे तो उसका लैंडमार्क भी देखते थे। पहले लोग बड़े बड़े लैंडमार्क याद रखा करते थे जैसे कि पहाड़ अथवा पठार आदि।

लैंडमार्क शब्द का वर्तमान में प्रयोग:-

आधुनिक तौर पर लैंडमार्क शब्द का प्रयोग बहुत किया जाता है अब के जमाने में बड़ी इमारतों, स्मारकों, पार्कों, आदि को landmark के रूप में देखा जाता है।

लैंडमार्क शब्द का प्रचलन इस दौर में इसलिए भी हुआ है क्योंकि अगर आपने कुछ ऑनलाइन मगाया है तो वहां पर आपको अपना लैंडमार्क address देना पड़ता है।

अगर आप कहीं जा रहे हैं और आपको address नहीं मालूम है तो आप लैंडमार्क ही सबसे पहले ढूंढेंगे।

लैंडमार्क को आसानी से समझें:-

आसानी शब्दो मे अगर landmark ka matlab समझे तो आपने किसी Online Company से कुछ ऑनलाइन वस्तु खरीदी है अब वो वस्तु आपके यहां तभी आयेगी जब आपका पता उन्हें मालूम होगा।

तो अब मान लेते हैं कि आपके घर से लगभग 500 मीटर दूर एक पार्क, इमारत, स्मारक, मूर्ति, मंदिर, आदि में से कुछ भी एक चीज है। 

उदाहरण के लिए हम पार्क को मान लेते हैं। और अब उस पार्क को हम A पार्क नाम दे देते हैं। तो अब आप अपने address में अपना घर का नंबर और अपने इलाके का नाम और लैंडमार्क के रुप में A पार्क का नाम देते हैं। 

तो डिलीवरी बॉय जब आपका ऑर्डर डिलीवर करने आएगा तो सबसे पहले आपके इलाके में आएगा और फिर आपके द्वारा दिए गए लैंडमार्क के पास आएगा और फिर आपसे आपके घर का रास्ता पूछेगा तो फिर आप बताएंगे कि आपको A पार्क से सीधा आना है या बाएं आना है

अथवा दाएं आना है। तो ऐसा कुछ आपके इधर भी जगह होगी जहां कुछ लोग जरुर जाते होंगे या फिर कुछ लोग जानते होंगे। वो पार्क, मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा, मूर्ति, स्मारक, इमारत, आदि कुछ भी हो सकता है।

कुछ फेमस लैंडमार्क के उदाहरण:-

दोस्तों अब हम आपको बताते हैं कुछ बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध landmarks के बारे में, जोकि इतने ज्यादा प्रसिद्ध हैं कि वह अपने इलाके, देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में सबसे अलग पहचान बनाए हुए हैं। वो भी एक लैंडमार्क के रुप में हो सकते हैं।

न्यूयॉर्क का स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी, वॉशिंगटन डीसी में व्हाइट हाउस, पेरिस का एफिल टॉवर, आगरा का ताजमहल, दिल्ली का लालकिला, अमृतसर का स्वर्णमंदिर, रोम का कालीजियम, लंदन का बिग बेन, बर्लिन का ब्रांडेनबर्ग गेट, टोरंटो का सिएन टॉवर, चीन की दीवार, आदि।

ये सभी जगह विश्व प्रसिद्ध हैं आप किसी से भी लैंडमार्क के रुप में इन्हें बताएंगे तो लगभग हर कोई यहां तक पहुंच ही जाएगा।

इसे भी पढ़े

श्रमिक – लेबर कार्ड के इन फायदे के बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए |Labour Card ke fayde

Conclusion:-

हम इस पोस्ट में यह जानकारी दी कि landmark ka matlab kya hota hai? हम उम्मीद करते हैं आपको landmark ka मतलब आसानी से समझ आ गया होगा।

लैंडमार्क हर वह चीज है जो कि थोड़ी बहुत प्रसिद्ध है। जैसे कि मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च, गांवों में प्रधान का घर, कोई चौराहा, कोई बाजार, आदि। अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर अवश्य करें।

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

Leave a Comment

%d bloggers like this: