Domain Name क्या होता है और इसे कैसे खरीदे? | Domain Name Kya Hai?

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

आज के पोस्ट मे हम बात करने वाले है की Domain Name kya hai और इसे आप अपने लिए कैसे खरीद सकते है। अगर देखा जाए तो आज के समाए मे अगर किसी भी प्रकार का कोई अनलाइन बिजनस सुरू करते है तो उसके लिए हमे एक वेबसाईट की जरूरत पड़ती है। आगे हम बात करेंगे डोमेन नेम क्या होता है और आप डोमेन रजिस्टर कैसे कर सकते है।

अनलाइन कर्रिएर बनाना चाहते है तो सबसे पहले वेबसाईट पड़ेगा और उसके लिए हुमए एक डोमेन नेम की जरूरत पड़ेगी इसके बिना सर काम अधूरा है क्युकी इसी से आपको लोग जानेंगे।

इसे वेबसाईट का Address और URL भी कहते है। क्या आपको पता है डोमेन क्या होताहै, अगर आपका जवाब है नहीं तो मेरे दोस्त इसमे आपकी कोई गलती नहीं हर चीज इंसान को पता नहीं होता हम आपको इस पोस्ट मे बिल्कुल डीटेल मे बताएंगे की डोमेन क्या होता है कैसे काम करता है और आप डोमेन कैसे खरीद सकते है।

जब भी हम किसी वेब्सायट को ओपन करना होता है तो हमे उसका यूआरएल या डोमेन नाम ब्राउज़र में टाइप करना पड़ता है, जिसके अब ये होता है की गूगल उस नाम के वेबसाइट को हमारे सामने लाता है रिजल्ट के रूप में और फिर हम अपने जरूरत के हिसाब से उसका पेज एक्सेस करते है।

अब थोड़ा Domain के बारे जानकारी लेते है, की जरूरत क्या है कहा से ख़रीदे और कौन सा एक्सटेंशन ले.

Table of Contents

डोमेन नेम किसे कहते हैं? | Domain Name Kya Hai?

डोमेन नेम यानि की DNS (Domain Name Server) किसी भी वेबसाईट का एक नाम या एक पहचान होता है जिसकी मदद से हम हजारों की वेबसाईट मे से किसी एक वेबसाईट को नाम के द्वारा खोज सकते है और उसको एक्सेस कर सकते है।अभी जितनी भी वेबसाईट है इंटरनेट पर सारे के सारे किसी न किसी यूनीक IP Address से जुड़ होती है।

IP Address एक यूनीक अड्रेस होता है जो इंटरनेट से जुड़ी डिवाइस की पहचान करता हैऔर IP का अर्थ इंटरनेट प्रोटोकॉल होता है।

आपको आसान भाषा मे समझाऊ तो डोमेन नेम किसी भी वेबसाईट का एक नाम होता है जिसे हम गूगल मे सर्च करके उस वेबसाईट तक पहुच पाते है। जैसे मम्मी पापा ने आपका नाम रखा है वो नाम बुलाने पर आप सुनते हो ठीक वैसे ही डोमेन होता है।

हर वेबसाइट का एक URL Address होता है और उनका एक यूनिक IP एड्रेस होता है, ये सब याद रख पाना बहोत मुश्किल होता है इसलिए हम domain का नेम रखते है इस पोस्ट मे मै आपको ये भी बताऊँगा की डोमेन नेम लिया कैसे जाता है।

इसे भी पढ़े :

ये कुछ domain name example है।

मैंने नीचे अपना ही वेबसाईट का उदाहरण देकर समझाता हु आपको समझने मे आसानी होगी।

वेबसाईट का नाम – http://bloggingshadow.com

इस वेबसाईट मे आपको तीन चीज देखने को मिलेगी वो भी मै आपको बताता हु स्टेप वाइज़ देखते जाइए।

Domain Name kya hai
Domain Name kya hai

Domain काम कैसे करता है?

अब बात करेंगे की डोमेन काम कैसे करते है तो मै आपको बता देना चाहता हु की अभी इस समय जीतने भी वेबसाईट हैवो एक होस्टिंग सर्वर पर होस्टेड है और उस वेबसाईट का सारा डाटा उस सर्वर मे सेव रखता है ।

Domain Name क्या होता है और इसे कैसे खरीदे? | Domain Name Kya Hai?

जब भी आप अपने कंप्युटर मे किसी Web Browser को ओपन करके उसके address bar मे जब भी कोई वेबसाईट का डोमेन नेम डालकर सर्च करते है।तो वो रीक्वेस्ट DNS Domain Name System तक जाता है तब DNS उस Domain Request को IP Address मे बदल देता है। तब उसे ये पता चल जाता है की ये वेबसाईट किस सर्वर पर होस्ट है।

और इस तरीके से उस सर्वर से हमे उस वेबसाईट का डाटा देखने को मिल जाते है तो ये था की डोमेन क्या होता है।

इसे भी पढ़े :

Domain Name की आवश्यकता क्यों है?

अब बात करेंगे की आपको डोमेन नेम क्यू लेना चाहिए तो मै आपको बता दु की अगर आप ब्लॉगिंग शुरू करना चाहते है या अपना खुद का कोई अनलाईन बिजनस सुरू करना चाहते है तो उसके लिए आपको वेबसाईट की जरूरत पडेफ़ि और उस वेबसाईट को लॉन्च करने के लिए आपको डोमेन नेम की जरूरत पड़ेगा।

डोमेन नेम आपके बिजनस को एक प्रोफेशनल लुक देता है एक अच्छा ब्रांड के तौर पर इंटरनेट पर अपना इम्प्रेशन बनाता है, जिस से की कोई भी अगर आपके बिजनस के बारे मे अनलाइन सर्च करे तो वो आपके वेबसाईट को इंटरनेट पर देखर ही इम्प्रेस हो जाता है की हा ये बिजनस वाकई मे जेन्युइन है।

अगर आप अपने बिजनस मे एक डोमेन लेते है और उस डोमेन के साथ एक प्रोफेशनल ईमेल आइडी लेते है तो ये दोनों आपके बिजनस मे चार चाँद लगा देते है। प्रोफेशनल ईमेल और वेबसाईट से कस्टमर या विज़िटर आपके ऊपर बहुत आसानी से भरोसा कर लेता है।

इसे भी पढ़े :

Domain और Sub-Domain में क्या अंतर है?

अब हम बात करेंगे की domain और sub-domain मे क्या अंतर है और क्या इसको हम खरीद सकते है। सबसे पहले हम डोमेन के बारे मे जानेंगे।

Domain (डोमेन)

डोमेन हमारा स्टैन्डर्ड यूआरएल होता है जो की हम किसी भी डोमेन रेजिस्ट्री से खरीदते है। हमारा मैं डोमेन नेम ही डोमेन कहलाता है। नीचे दिए गए इमेज मे आप देख सकते है।

जैसे की : http://bloggingshadow.com ये पूरा हमारा रूट डोमेन है यानि की मैन डोमेन है।

Domain Name क्या होता है और इसे कैसे खरीदे? | Domain Name Kya Hai?

Sub-Domain क्या होता है (सब-डोमेन)

सब-डोमेन हमारे डोमेन का ही एक पार्ट होता है इसको हम कुछ इस तरीके से देख सकते है जैसा आपको नीचे इमेज मे दिखाई दे रहा है। सब-डोमेन को हमे खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है इसको हम डोमेन की मदद से ही बनाते है।

Domain Name क्या होता है और इसे कैसे खरीदे? | Domain Name Kya Hai?

अगर एक बार आपने एक डोमेन ले लिया है तो उसको मदद से आप बहुत सारी सब-डोमेन बनाकर अलग अलग कई सारी वेबसाईट बना सकते है।

सब-डोमेन मे हम अपने root domain यानि की अपने मैन डोमेन को सब-डोमेन मे एक इक्स्टेन्शन की तरह इस्तेमाल करते है।

जैसे की: digitalmarketing.bloggingshadow.com जहा से हमारा .bloggingshadow.com शुरू हुआ है वो हमारा इक्स्टेन्शन है और digitalmarketing हमारा एक सब-डोमेन है।

इसे भी पढ़े :

डोमेन कितने प्रकार के होते है? | Types of Domain

अभी हम बात करेंगे की डोमेन कितने प्रकार के होते है और किस प्रकार के डोमेन हमे इस्तेमाल करना चाहिए और किसी एक कन्ट्री को टारगेट करना होतो हम किस प्रकार के डोमेन का सिलेक्शन करेंगे। वैसे तो डोमेन 4 तरीके के होते है जैसे की:

ये है कुछ डोमेन के प्रकार:-

  1. TLD – Top Level Domain
  2. Generic Top-Level Domain (gTLDs)
  3. New Top Level Domains (nTLDs)
  4. Second level Domain
  5. Third Level Domain
  6. Sub domain
  7. Country Code Top Level Domain

TLD Domain:-

TLD को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है

1. Generic Top-Level Domains (gTLD): जेनेरिक टॉप-लेवल डोमेन एक नाम है, जो उस डोमेन category की पहचान करता है जो इसके साथ जुड़ा हुआ है (.com, .org, .edu आदि)।

  • com (commercial)
  • .org (organization)
  • .net (network)
  • gov (government)
  • .edu (education)
  • .name (name)
  • .biz (business)
  • .info (information)

2. Country Code Top-Level Domains (ccTLDs): यह दो अक्षर का डोमेन एक्सटेंशन है, जैसे .uk या .fr, जो किसी देश, भौगोलिक स्थान या क्षेत्र के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • .us: United States
  • .in: India
  • .ch: Switzerland
  • .cn: China
  • .ru: Russia
  • .br: Brazil

Second level Domain:

Second Level Domain हमारे वेबसाईट का नाम या ब्रांड होता है यानि की वेबसाईट का मैन नाम जैसा की हमने आपको ऊपर डोमेन और सब-डोमेन का इमेज दिया है उसमे आपको जो www के बाद का जो data दिख रहे है bloggingshadow वही हमारा second level domain डोमेन है।

Third Level Domain:

हमारे वेबसाईट के यूआरएल मे जो www होता है उसे ही हम third level domain कहते है।

New Top Level Domains (nTLDs)

(nTLDs) New top-level domain names को इशारा करता है, जो ब्रांड संगठनों और सेवाओं में प्रयोग किया जाता हैं, क्योंकि वे अधिक अनुकूलित हैं। NTLDs के उदाहरणों में “.voyage”, “.app”, “.ninja”, “.cool” आदि आते हैं।

इसे भी पढ़े :

Domain Name और URL एक समान नहीं होते है।

क्या आपको भी लगता है की डोमेन और यूआरएल एक ही होता है अगर हा तो आप गलत सोच रहे है मै आपको बताता हु की इन दोनों मे क्या अंतर है।

Domain: डोमेन हमारे वेबसाईट न सिर्फ और सिर्फ नाम होता है जैसे की bloggingshadow ये मेरी डोमेन का नाम है।

URL (यूआरएल): यूआरएल एक लिंक होता है जिसमे second level domain, subdomain, domain name, और extension का combination होता है। इसलिए आप यूआरएल और डोमेन मे कन्फ्यूज़ न हो।

एक अच्छा Domain Name कैसे सिलेक्ट करे?

जब भी आप कोई डिमैन बूल करे या रजिस्टर कर तो इन सभी बातों का जरूर ध्यान रखे क्युकी ये आपके बिजनस को एक आछ ग्रोथ देते है और लोग भी इस से इम्प्रेस होते है।

  • ऐसा नाम चुनें जो टाइप करना और उच्चारण करना आसान हो – यदि लोग आपके डोमेन नाम को याद नहीं रख पते या अच्छे  से बोल नहीं पते तो ये आपके लिए बहोत दुःख की बात है क्युकी अगर लोग आपकी डोमेन का नाम याद नहीं रख पिएंगे तो  सायद अगली बार आपकी वेबसाइट पर आहि न पाए
  • एक डोमेन नाम चुनें जिसे ब्रांड में बदला जा सकता है – आपको बहोत ही सिंपल डोमेन नाम बुक करना चाहिए जिस से की लोग याद रख सकते और परेश करे की आपके डोमेन में  नंबर, हायफ़न,या कोई सिंबल न रहे वर्ना याद रखना और उच्चारण करना बहुत मुश्किल है। और डोमेन नाम ऐसा भी होना चाहिए की जरूरत पड़ने पर हम उसे एक ब्रांड मेभी कन्वर्ट कर सके.
  • डोमेन नेम छोटा रखे: इसे छोटा और सरल रखे। लंबे, जटिल डोमेन नाम गलत होने और गलत होने का  बड़ा जोखिम है।
  • उन नामों से बचें जो मौजूदा ब्रांडों के साथ भ्रमित हो सकते हैं – यदि किसी ब्रांड का नाम उसे करते  है जो पहले से ही एक्सिस्ट करता है तो आप बहोत बड़ी भूल कर रहे है वो ब्रांड आपके ऊपर कंप्लेंट भी कर सकता है की आप उसकी कॉपी कर रहे है , और किसी एक्सिस्ट ब्रांड का नाम उसे करेंगे तो ट्रैफिक ज्यादेतर उसके साइट पर ही जायेगी
  • एक उपयुक्त extenstion का उपयोग करें – हमेसा उस extension को use करे जहा के लोगो को आप टार्गेट करना चाहते है जैसे की आपको US के लोगो को टारगेट करना  है की उस  के लोग आपकी वेबसाइट पर ज्यादे आइये तो आपको .com  ही use करना चाहिए। मेरा मतलब सिंपल सा यही है की आप जहा के लोगो को टारगेट करना चाहते है उस country के extension  को use करे जैसे की अगर आप इंडिया मे बिजनस करते है तो .in या .com domain ले।
  • एक ऐसा नाम चुनें जो की आपके व्यवसाय के बारे मे Describe करता है:– आपको वही डोमेन ख़रीदनाचहिये जो की आपके  business को रेप्रिज़ेन्ट करता हो जैसे की  आप क्लोथ्स की बिजनस करते है पर डोमेन किसी और केटेगरी का ले लिया जैसे की techword तो ये नाम आपके बिजनस से रिलेट नहीं कर रहा है इसलिए नाम हमेसा से ध्यान में रख कर ही लेना चाहिए

इसे भी पढ़े :

Top Domain Name Provider कौन कौन से है।

अब बात करेंगे की डोमेन आप कहा से खरीद सकते है तो मै आपको कुछ अच्छे डोमेन नेम रेजिस्ट्री करने वाले कंपनी का नाम बता देता हु आप अगर यह से डोमेन लेते है तो आपको किसी भी प्रकार की परेशानी देखने को नहीं मिलेगी।

  • GoDaddy
  • Big Rock
  • Namecheap
  • Reseller Club
  • Bluehost
  • Hostgator
  • Domain.google
  • 1and1
  • Znetlive
  • Namesilo
  • Netfirms
  • Domain India
  • Square Brothers
  • India Links
  • Net4 India
Domain Name Kya Hai

Domain Name कहा से ख़रीदे ?

डोमेन नाम register करने के लिए आपको इयरली भुगतान करना होगा। जब पंजीकरण की अवधि समाप्त हो जाती है, तो आपको renew करने का विकल्प दिया जाएगा। यदि आप नहीं करते हैं तो आपका डोमेन एक्सपायरी लिस्ट में चला जाएगा और आपका डोमेन नाम दूसरों को उपलब्ध कराया जाएगा।

Godaddy.com और NameCheap सबसे लोकप्रिय हैं। यह आप डोमेन नाम खरीद सकते है यह आपको हमेसा कोई न कोई ऑफर मिलता ही रहता है और यहां डोमेन नामेसस्टा भी मिल जाता है

इसे भी पढ़े :

आखिरी शब्द ( Domain Kya Hai)

आज हमने बात की Domain name kya hai के बारे में जिसमे मैंने डोमेन से रिलेटेड साडी जानकारी देने की कोसिस की है , अगर आपको ये ब्लॉग पसंद आये तो हमे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और हा इस ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे.

FAQ’s

डोमेन नाम क्या है समझाइए?

डोमेन नेम आपके वेबसाईट का नाम होता है जिसको लोग इंटरनेट पर सर्च करके आपके वेबसाईट पर विज़िट करते है।

डोमेन नाम क्या है उदाहरण सहित?

डोमेन नेम वेबसाईट का नाम होता है जिसको लोग इंटरनेट पर सर्च करके आपके वेबसाईट पर विज़िट करते है। जैसे की bloggingshadow.com दिख रहा है।

डोमेन नेम कैसे करते हैं?

डोमेन नेम कैसे बुक करते है इसके लिए आपको मैंने इसी पोस्ट मे स्टेप वाइज़ बताया है आप उसको पढ़ सकते है।

डोमेन नाम क्या है इसकी आवश्यकता क्यों पड़ती है?

डोमेन नेम किसी भी वेबसाईट का नाम है और इसको इसलिए इस्तेमाल किया जाता है ताकि लोग आपकी वेबसाईट पर विज़िट कर सके और आप आसानी से अपना अनलाइन बिजनस चल सके।

डोमेन कितने प्रकार के होते हैं?

डोमेन पाच प्रकार के होते है जैसे की
TLD – Top Level Domain
Second level Domain
Third Level Domain
Sub domain
Country Code Top Level Domain

डोमेन नाम और डीएनएस से आप क्या समझते हैं?

डोमेन नेम और Domain Name Server मे कोई अंतर नहीं होता है ये दोनों एक ही है।

डोमेन नाम क्या है कुछ डोमेन नाम विवादों का उदाहरण दें?

डोमेन नेम आपके वेबसाईट की पहचान होती है जिसको लोग इंटरनेट पर सर्च करते है और आपके बारे मे और आपके वेबसाईट के बारे मे जानते है। जैसे की http://bloggingshadow.com दिख रहा है।

डोमेन नाम क्या है डोमेन नाम को कैसे पंजीकृत किया जा सकता है?

डोमेन नेम आपके वेबसाईट का नाम होता है। डोमेन रजिस्टर करने के लिए आप GoDaddy या फिर Big Rock से ले सकते है।

ऐसे ही लैटस्ट अपडेट के लिए हमसे जुड़े रहिए हमारे Whats'App पर जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

2 thoughts on “Domain Name क्या होता है और इसे कैसे खरीदे? | Domain Name Kya Hai?”

Leave a Comment

%d bloggers like this: